Newslivenow

"न्यूज़ लाइव नॉऊ" टीवी

posted Jun 4, 2011, 3:19 PM by Site Designer   [ updated Jun 4, 2011, 3:37 PM ]

                                                                            "न्यूज़ लाइव नॉऊ" टीवी एक सोच 
मीडिया लोगों तक पहुँचने का वर्तमान में सबसे अच्छा माध्यम है.....जहाँ एक ओर आधुनिकता के साथ साथ अनैतिकता और भ्रष्टाचार की बाढ़ में सब बहे जा रहे हैं....वही उस आंधी ने मीडिया को भी प्रभावित किया है......जिस मीडिया पर सामाजिक सरोकारों को प्रमुखता दिए जाने की जिम्मेवारी थी वो ही मार्ग से भटकता प्रतीत हो रहा है......कुछ विदेशी समाचार चैनलों ने सनसनी के लिए धर्म पर धार्मिक व्यक्तियों पर कई मनघडंत प्रसारण किये.....बेचारा आम आदमी जिसे मीडिया की अंदरूनी जानकारियां नहीं होती सबकुछ सच ही मान लेता है....लेकिन वास्तविकता बहुत ही अलग होती है......यही हाल आज प्रिंट मीडिया का भी हैं.....पैसे दो खबर लो....यानि पेड न्यूज़ जैसी निकृष्ट मानसिकता भी अन्दर ही अन्दर चल रही है.....उनको भी दोष नहीं दिया जा सकता क्योंकि बाजारवाद के प्रतियोगी सिद्धांत के कारण वो सब बंधे हुए हैं......लेकिन अधिकतर मीडिया गलत लोगों के हाथ में होने के कारण भारत की संस्कृति और आदर्शों में गिरावट आई है.....मीडिया को नजदीक से समझने के लिए स्वयं "कौलान्तक पीठाधीश्वर महायोगी सत्येन्द्र नाथ जी महाराज" ने.....कुल्लू हिमाचल प्रदेश में 5 बर्षों तक extreme tv india नाम से केबल पर 24 घंटों का न्यूज़ चैनल चलवाया.....व उसके सभी कामों को स्वयं कुछ शिष्यों के साथ किया.....जिस कारण समाचारों को बनाना....प्रस्तुतीकरण....के साथ साथ लोगों की समस्याओं का प्रसारण....."अपराध" नाम से अपराधिक गतिविधियों पर कार्यक्रम बना कर इलेक्ट्रानिक मीडिया को नजदीक से प्रायोगिक तौर पर समझा.......इस चैनल को सँभालने के लिए कुछ योग्य इलेक्ट्रोनिक मीडिया के धुरंधरों से सहायता ली गयी थी.....प्रिंट मीडिया को समझने के लिए महायोगी जी ने "सुबह सबसे पहले" नाम का समाचार पत्र आश्रम से प्रायोगिक तौर पर चलवाया......जिसकी संपादिका आदरणीया बहन मञ्जूषा जी थी.......इन प्रयोगों के बाद महायोगी जी ने स्वयं दूरदर्शन शिमला पर कार्यक्रम किये फिर अनेक राष्ट्रिय चैनलों में भी......इस दौरान मीडिया का जहाँ भ्रष्ट चेहरा सामने आया वहीँ......देश के कुछ ऐसे मीडिया कर्मियों से महायोगी जी का मिलना हुआ......कि महायोगी जी उन की प्रशंसा करते नहीं थकते.....महायोगी जी कहते हैं कि जहाँ कुछ गलत लोग है...तो हैं......हम चिंता क्यों करें?.....ये तो देखिये कि बहुत से लोग सच्ची पत्रकारिता करते हैं....हम अगर गलत हैं तो कहेंगे गलत हैं......ठीक हैं तो कहेंगे ठीक हैं....ऐसे स्वाभिमानी लोगों के कारण ही पत्रकारिता जिन्दा हैं.....क्योंकि महायोगी जी साधना के लिए निरंतर अलग-अलग जगहों पर जाते रहते हैं.....और कुल्लू में कोई स्थाई आश्रम ना होनें के कारण...."Extreme tv India" को चैनल का रूप नहीं दे सके, लेकिन गांव-गांव में चैनल विख्यात हो गया.....इस बात से सिद्ध होता है कि मीडिया का जन मानस पर कितना प्रभाव है.....इसी कारण समाचार पत्र को भी शुरू नहीं किया गया.....लेकिन महायोगी जी के आशीर्वाद तले रहने के कारण.....और उनकी विषयों को प्रायोगिक तौर से समझने की अद्भुत कला के कारण हम पर उसका असर हो गया....स्वयं तो महायोगी जी पुन:अगले कार्य में जुट गए......लेकिन लगातार मीडिया बंधुओं के साथ रहने के कारण मैं भी इस क्षेत्र को समझने लगा और सौभाग्य से कौलान्तक पीठ ने "न्यूज़ लाइव नॉऊ" का सारा कार्य मुझे सौंप दिया.....मानो मेरी मनचाही मुराद मिल गयी हो......महायोगी जी की कृपा प्राप्त कर सकूँगा.......साथ ही अपना मनचाहा कार्य कर सकूँगा......और आप सब तक सही सटीक जानकारियां तो पहुंचाऊंगा ही साथ ही कौलान्तक पीठाधीश्वर महायोगी सत्येन्द्र नाथ जी महाराज से जुड़े समस्त दिव्य कार्यक्रम भी आप तक पहुंचाऊंगा....हालाँकि महायोगी जी से हमें कोई निर्देश "न्यूज़ लाइव नॉऊ" टीवी के सम्बन्ध में नहीं मिलता.....लेकिन जो मुझे और मेरी टीम को लगता हैं हम करते जाते हैं.......यदि महायोगी जी से हम "न्यूज़ लाइव नॉऊ" टीवी के बारे में पूछते हैं तो कहते हैं की यदि मुझसे ही पूछना है तो.....ये योगी टीवी हो जायेगा "न्यूज़ लाइव नॉऊ" टीवी का नाम क्यों धूमिल करना......मीडिया का काम चाहे जो भी संगठन करे उसे मीडिया की स्वतंत्रता में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए.....जहाँ एक ओर ये टीम को पूरी आजादी है कि वो क्या प्रसारित करें वहीँ......हम समझ नहीं पा रहे की हमे क्या-क्या करना चाहिए.....एक ऐसे दिव्य पुरुष के आश्रय में काम करना गौरव की बात है...लेकिन अब हम आप दर्शकों की राय और प्रोत्साहन की प्रतीक्षा करेंगे......जो हमें मनोबल प्रदान करेगी....और हम सब मिल कर हिमालय की महानतम पीठ कौलान्तक पीठ का गौरव बढ़ा सकेंगे....यही सोच ले कर....सामाजिक चिंतन और सांस्कृतिक आध्यात्मिक चिंतन के साथ हम "न्यूज़ लाइव नॉऊ" टीवी ले कर उपस्थित है......ये आपका चैनल है.....जनमानस का चैनल......भारत भूमि का चैनल........आपका अपना "न्यूज़ लाइव नॉऊ" टीवी.....आप "न्यूज़ लाइव नॉऊ" टीवी पर कौलान्तक पीठाधीश्वर महायोगी जी के प्रवचनों का एवं साधनाओं का सीधा प्रसारण भी देख सकते हैं...."न्यूज़ लाइव नॉऊ" टीवी ने हिमालय और जंगलों से बर्फीली कंदराओं से सीधे प्रसारण की पूरी व्यवस्था कर ली है....इंटरनेट वेसाईट के माध्यम से भी "न्यूज़ लाइव नॉऊ" टीवी विश्व भर में कहीं भी देखा जा सकता है.....आप हमें मेल कर अपनी राय सुझाव दे सकते हैं व् हमें लिख सकते हैं...........
                          click this link for newslivenow.tv -                      www.newslivenow.tv
-रमेश शर्मा "न्यूज़ लाइव नॉऊ" टीवी हिमालय

1-1 of 1